ads
आज है: October 17, 2017

बैडमिंटन

पिछला परिवर्तन-Wednesday, 30 Aug 2017 04:21:48 AM

विश्व चैम्पियनशिप में पदक का रंग बदलकर खुश हैं सिंधु

हैदराबाद। पूर्व कांस्य पदकधारी पीवी सिंधु फाइनल में हारने से निराश तो हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि वह इस बात से खुश हैं कि विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतकर कम से कम से पदक का रंग तो बदलने में सफल रहीं। सिंधु को रविवार को ग्लास्गो के एमिरेट्स एरीना में रोमांचक मैराथन फाइनल में जापान की नोजोमी आेकुहारा से 19-21, 22-20, 20-22 से हार का मुंह देखना पड़ा जो एक घंटे 50 मिनट तक चला। सिंधु विश्व चैम्पियनशिप के 2013 और 2014 चरण में कांस्य पदक जीत चुकी है। उन्होंने घर लौटने के बाद कहा कि फाइनल मैच के बाद, मैं काफी निराश थी, लेकिन मैंने सोचा कोई बात नहीं। मैंने सोचा कि अब यह खत्म हो चुका है, अगले दिन से सब सामान्य हो गया।
उन्होंने कहा कि रियो ओलंपिक के बाद यह सर्वश्रेष्ठ मुकाबलों में से एक रहा। विश्व चैम्पियनशिप कुछ अलग होती है। मैंने पहले भी इसमें कांसा जीता था। मैं खुश हूं कि मैंने इसका रंग बदलकर रजत कर दिया। विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल की बात करते हुए ओलंपिक रजत पदकधारी ने कहा कि यह मानसिक और शारीरिक रूप से थका देने वाला था। आपको लगता है कि आपको एक अंक लेना ही पड़ेगा, नोजोमी आेकुहारा भी थकी हुई थी, लेकिन यह मेरा दिन नहीं था। यह पूछने पर कि क्या लंबे समय तक होने वाले मुकाबलों का चलन अब बैडमिंटन में शुरू हो गया तो उन्होंने भी सकारात्मक जवाब दिया। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से, यह अब इतना आसान नहीं होना वाला। हमें प्रत्येक अंक के लिए जूझना होगा। मैच में कुछ भी हो सकता है।
एक सवाल के जवाब में सिंधु ने कहा कि यह सुनकर अच्छा लगता है कि लोग उनसे प्रेरणा लेते हैं और कई जानी मानी हस्तियों ने सोशल मीडिया पर उन्हें शुभकामनाएं दीं। मुख्य राष्ट्रीय कोच पी गोपीचंद ने सिंधु और साइना नेहवाल के पदक जीतने पर खुशी जाहिर की और कहा कि पुरुष खिलाडिय़ों के श्रीकांत और बी साई प्रणीत ने विश्व चैम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन दिखाया।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. नेताजी से फोन पर बात हुई, मुझे आशीर...
  2. अखिलेश के फिर सपा अध्‍यक्ष चुने जान...
  3. केनरा बैंक की एटीएम में लगी आग, लाख...