ads
आज है: July 17, 2018

बैडमिंटन

पिछला परिवर्तन-Tuesday, 19 Dec 2017 01:06:08 AM

सिंधु 2 अंकों से दुबई वर्ल्ड सुपरसीरीज खिताब से चूकीं

दुबई। महिला एकल वर्ग के फाइनल में तीसरे गेम में केवल दो अंकों से पिछड़ने के कारण रियो ओलम्पिक की रजत पदक विजेता पी.वी. सिंधु के हाथों से रविवार को दुबई वर्ल्ड सुपरसीरीज का खिताब फिसल गया। जापान की दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी अकाने यामागुची ने तीसरी विश्व वरीयता प्राप्त सिंधु को खिताबी मुकाबले में मात दी और टूर्नामेंट को जीत लिया। दूसरी विश्व वरीयता प्राप्त यामागुची ने भारत की अग्रणी महिला बैडमिटन खिलाड़ी सिंधु को एक घंटे 34 मिनट तक चले मैच में 15-21, 21-12, 21-19 से मात दी।
इस मैच में दोनों खिलाड़ियों ने अपनी ही गलतियों के कारण एक-दूसरे के खाते में अंक पहुंचाए। पहले गेम में सिंधु को यामागुची पर भारी पड़ते देखा गया। 8-8 से बराबरी के बाद भारतीय खिलाड़ी ने यामागुची के खिलाफ आक्रामक खेल दिखाया। यामागुची भी अधिक अक्रामकता के साथ इस गेम को खेल रही थीं और इस कारण उनसे कई गलतियां हुईं, जिसका फायदा सिंधु ने उठाया और 14-11 से बढ़त ली। हालांकि, सिंधु ने भी इस स्तर पर पहुंचकर गलतियां की और इस कारण जापानी खिलाड़ी ने इस बढ़त को 13-15 किया, लेकिन हार न मानते हुए सिंधु डटी रहीं और अंत में पहला गेम 21-15 से अपने नाम किया।
भारतीय खिलाड़ी ने दूसरे गेम की शुरुआत अच्छी की और पहले ही 4-0 से बढ़त हासिल कर ली, लेकिन यहां सिंधु ने पहले गेम में की गई कुछ गलतियों को फिर से दोहराया और गलत शॉट खेलने के कारण यामागुची को बढ़त बनाने का मौका दे दिया। इसी का फायदा उठाकर सिंधु से अधिक फुर्ती रखने वाली यामागुची ने दूसरा गेम 21-12 से अपने नाम कर लिया। तीसरे गेम तक दोनों खिलाड़ी काफी थक चुकी थीं। ऐसे में दोनों के बीच बराबरी का मुकाबला देखा गया। दोनों ही एक ही प्रकार की गलतियां करते हुए एक-दूसरे को अंक दे रहीं थीं। सिंधु और यामागुची के बीच हालांकि, तीसरा गेम सबसे रोमांचक रहा। इसमें दोनों के बीच 51 शॉट की रैली भी हुई। एक समय पर थकान से चूर यामागुची गलत शॉट खेलने के बाद मैट पर लेट गईं।
यामागुची और सिंधु भले ही थक चुकीं थी, लेकिन परिणाम के लिए दोनों के बीच संघर्ष जारी था। एक समय पर दोनों खिलाड़ी 19-19 से बराबर पहुंच गईं। यहां यामागुची ने अपनी सारी शक्ति बटोरते हुए सिंधु के खिलाफ स्मैश वाले शॉट खेले और दो अंक लेने के साथ ही खिताबी जीत हासिल की और सिंधु इन्हीं दो अंकों के कारण टूर्नामेंट को पहली बार जीतकर इतिहास रचने से चूक गईं। सिंधु अगर इस खिताब को जीत लेतीं, तो वह इस टूर्नामेंट को जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी होने का इतिहास रचतीं। इस जीत के साथ यामागुची ने पिछले साल इसी टूर्नामेंट के ग्रुप-बी में सिंधु के हाथों मिली हार का बदला भी पूरा किया। दोनों खिलाड़ियों के बीच कुल छह मुकाबले खेले जा चुके है। ऐसे में आंकड़ों के स्कोर में सिंधु ने 4-2 से बढ़त बनाए हुए थी, जिसे अब यामागुची ने दुबई वर्ल्ड सुपरसीरीज का फाइनल मैच जीतकर 4-3 कर दिया है।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...