ads
आज है: October 17, 2017

कैरियर

पिछला परिवर्तन-Tuesday, 29 Aug 2017 01:52:14 AM

ब्यूटीशियन, हेयर डिजाइनर बनकर भी कमा सकते हैं लाखों

ब्यूटीशियन, हेयर डिजाइनर बनकर कमाए लाखों
यदि आप दुनिया से अलग हटकर कुछ करना चाहते हैं। खुद को अलग दिखाना चाहते हैं, साथ ही दूसरों की भी अलग पहचान बनाना चाहते हैं तो कुछ हटकर कीजिए। जी हां, कॉस्मेटिक विशेषज्ञ बनिए और पहचान-प्रतिष्ठा पाइए। इसे आम बोलचाल की भाषा में ब्यूटीशियन भी कहा जाता है। एक सौंदर्य विशेषज्ञ का काम लोगों की सुंदरता को निखारना होता है। जाहिर है इसकी कीमत चाहे जितनी मिले, कम ही लगती है। देश में कई ऐसे मशहूर ब्यूटीशियन और हेयर डिजाइनर हैं जिन्होंने अपने कॅरियर की शुरुआत एक मामूली इंसान की तरह की लेकिन अपनी लगन और मेहनत के बल पर भारी शोहरत और दौलत कमायी।
इनमें शहनाज हुसैन, जावेद हबीब, ब्लोसम कोचर, वंदना लूथरा और अंबिका पिल्लै जैसी हस्तियों को कौन नहीं जानता। इनके अलावा भी कई ऐसे सौंदर्य विशेषज्ञ हैं जो एक मामूली दुकान से बड़ी कंपनी खड़ा करने में कामयाब रहे। इस कारोबार से जुड़े लोगों की मानें तो आने वाले दिनों में इस व्यवसाय में भारी फायदा होने वाला है। शहनाज हुसैन को भारतीय सौंदर्य व्यवसाय का संस्थापक माना जाता है। उन्होंने 1977 में सबसे पहले ब्यूटीशियन पाठ्यक्रम की शुरुआत की और वूमेन वर्ल्ड इंटरनेशनल स्कूल खोला। एक कॉस्मोटिक विशेषज्ञ को सौंदर्य कला में निपुण और कुशल होना जरूरी है क्योंकि उसका काम चेहरे को नया लुक देने के साथ-साथ उसे स्वस्थ रखने का तरीका भी बताना होता है। इसके अलावा बाल, बॉडी-फिगर, डाइट, हेयर स्टाइल, मेकअप, हेयर रिमूवल, ऐनिकियोर, पेडिकियोर और मसाज करना होता है। ब्यूटीशियन कोर्स में दाखिले के लिए अभ्र्यथी को कम से कम इंटरमीडिएट पास होना जरूरी है। इसके अलावा अभ्यर्थी में वह हर गुण होना जरूरी है जो एक व्यवसायी में होता है। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो भारत में अभी धीरे-धीरे फल-फूल रहा है।
लिहाजा बाजार में हर रोज सौंदर्य-प्रसाधन का एक नया उत्पाद लांच किया जा रहा है। ऐसे में अभ्र्यथी में अच्छे प्रोडक्ट का चुनाव करने की क्षमता के अलावा कलर सेंस भी होना चाहिए। कॉस्मेटिक पाठ्यक्रम में दाखिला लेने वाले अभ्यर्थी को हेयर स्टाइल, बाल कटिंग, पर्मिंग, कलरिंग, ब्लीचिंग, हेयर ड्रेसिंग और स्टाइलिंग, त्वचा केयर, फेसियल, मेनिकियोर, पेडिकियोर और चेहरे, हाथ, पैर, गर्दन और बांह के मसाज के बारे में बताया जाता है। इसके अलावा ट्रेनिंग के दौरान अभ्यर्थी को इलेक्ट्रॉनिक औजारों को चलाना, रासायनिक पदार्थों के इस्तेमाल और उनके त्वचा पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बताया जाता है। इसके साथ ही बेजान हो चुके बालों और त्वचा के उपचार के बारे में बताया जाता है। सफलतापूर्वक पाठ्यक्रम पूरा करने वाले अभ्र्यथी कभी खाली नहीं बैठते। उन्हें सैलून, स्कूल, टीवी चैनलों, ब्यूटी पार्लरों, हेल्थ क्लब, ब्यूटी सलाहकार, ब्यूटी थेरेपिस्ट, मीडिया हाउस में काम मिल जाता है। इसका डिप्लोमा, सर्टिफिकेट कोर्स और एडवांस डिप्लोमा पाठ्यक्रम उपलब्ध है।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. नेताजी से फोन पर बात हुई, मुझे आशीर...
  2. अखिलेश के फिर सपा अध्‍यक्ष चुने जान...
  3. केनरा बैंक की एटीएम में लगी आग, लाख...