ads
आज है: July 17, 2018

कॉर्पोरेट

पिछला परिवर्तन-Thursday, 21 Dec 2017 00:23:07 AM

RBI गवर्नर उर्जित पटेल ने इस पर जताई थी चिंता

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने मौद्रिक नीति समिति एमपीसी की बैठक में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों तथा राजकोषीय और बाहरी मोर्चे पर अनिश्चितताओं को लेकर चिंता जताई थी। इस बैठक में महत्वपूर्ण नीतिगत दरों में बदलाव नहीं किया गया था। समिति के दो अन्य सदस्यों डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य और कार्यकारी निदेशक देववत्र पात्रा ने पेट्रोलियम कीमतों की बढ़ती महंगाई के मुद्दे को उठाया था। पांच और छह दिसंबर को हुई एमपीसी की बैठक के मिनट्स से यह जानकारी मिली है।
दिसंबर की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में केंद्रीय बैंक ने रेपो दर को छह प्रतिशत पर कायम रखा था। हालांकि, भविष्य में ब्याज दरों में कटौती की संभावना खुली रखी थी। बैठक में पटेल ने कहा कि वृहद आर्थिक स्थिति व्यापक रूप से अक्तूबर, 2017 में हुई बैठक की तुलना में बदले नहीं हैं। गवर्नर ने बैठक में नीतिगत दरों पर यथास्थिति के पक्ष में मत दिया था। लगातार दूसरी बार रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में बदलाव नहीं किया था। आचार्य ने भी यथास्थिति के पक्ष में मत दिया था। छह सदस्यीय समिति में से सिर्फ रवीन्द्र एच ढोलकिया ने ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत कटौती के लिए मत दिया था। एमपीसी के अन्य सदस्यों में चेतन घाटे तथ प्यूमी दुआ हैं।

Comments          Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...