ads
आज है: October 19, 2018

कॉर्पोरेट

पिछला परिवर्तन-Wednesday, 23 May 2018 23:22:21 PM

ईंधन दाम के दीर्घकालिक समाधान पर काम कर रही सरकार : प्रसाद

नई दिल्ली।सरकार ने कहा है कि वह पेट्रोल, डीजल के दाम में लगातार होने वाले बदलाव और बढ़ते दाम को लेकर दीर्घकालिक समाधान पर काम कर रही है। पेट्रोल, डीजल के दाम लगातार 10 वें दिन बढ़े हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने पिछले साल जून में हर पखवाड़े पेट्रोल, डीजल के दाम में संशोधन की 15 साल पुरानी व्यवस्था को समाप्त कर अंतरराष्ट्रीय बाजार की घटबढ़ के अनुरूप हर दिन दाम में फेरबदल की शुरूआत की। यह व्यवस्था हाल के दिनों में ठीकठाक चली लेकिन चुनाव के दिनों में मतदान से कुछ दिन पहले इसपर रोक लगा दिया जाता है।
हाल में कर्नाटक विधानसभा चुनावों से पहले 19 दिन दाम में दैनिक संशोधन की व्यवस्था को रोक दिया गया। जैसे ही मतदान समाप्त हुआ उसके बाद 14 मई के बाद अब तक पिछले नौ दिन में पेट्रोल का दाम 2.54 रुपये और डीजल का दाम 2.41 रुपये लीटर बढ़ चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आज हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद कानून एवं आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा, ईंधन के दाम में लगातार होने वाली वृद्धि चिंता और बहस का विषय है। सरकार इस समूची प्रक्रिया पर गौर कर रही है। दाम में वृद्धि और इनको लेकर बनी अनिश्चितता हर पहलू को वह देख रही है।
उन्होंने कहा कि लगातार बदलती भूराजनीतिक स्थिति ने अंतरराष्ट्रीय तेल मूल्यों की दिशा को लेकर अनिश्चिता पैदा कर दी है। सरकार इस बात को लेकर गंभीर है कि तदर्थ उपाय करने के बजाय दीर्घकालिक निदान किया जाये। ऐसा निदान जिससे न केवल ईंधन मूल्य की घटबढ से निजात मिले समय समय पर होने वाली घटबढ़ से जो अनावश्यक परेशानी होती है उससे भी छुटकारा मिले। मंत्री ने हालांकि उपायों के बारे में बताने से इनकार किया। शुल्क कटौती अथवा दूसरे उपायों के बारे में उन्होंनें कोई जानकारी नहीं दी।
पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क कटौती के बारे में पूछने पर प्रसाद ने कहा कि कर से मिलने वाले राजस्व का देश के विकास में इस्तेमाल किया जाता है। राजमार्गों का निर्माण, डिजिटल ढांचागत सुविधा, गांवों को बिजली, अस्पताल और शिक्षा क्षेत्र के विकास कार्यों में इसका इस्तेमाल होता है। पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम के इस मुद्दे पर सरकार की आलोचना के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, मैं मीडिया के अपने मित्रों से कहना चाहूंगा कि वह चिदंबरम को ट्वीट कर पूछें कि यदि उनका गणित इतना मजबूत है तो फिर उनकी सरकार सत्ता से कैसे बाहर हो गई।

Comments          Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...