ads
आज है: September 21, 2018

फुटबाल

पिछला परिवर्तन-Thursday, 23 Nov 2017 23:49:33 PM

दिल्ली डाइनेमोज़ ने पुणे को 3-2 से हराकर जीत के साथ की शुरूआत

पुणे। दिल्ली डायनामोज ने इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में एफसी पुणे सिटी के खिलाफ अपनी शानदार फॉर्म जारी रखी है। दिल्ली ने बुधवार को श्री छत्रपति शिवाजी स्पोटर्स काम्पलेक्स में खेले गए लीग के चौथे सीजन के अपने पहले मैच में पुणे को 3-2 से हराकर पूरे तीन अंक हासिल किए। आईएसएल इतिहास में दिल्ली और पुणे के बीच अब तक कुल सात मुकाबले हुए हैं। इनमें से चार बार दिल्ली की जीत हुई है जबकि दो मैच बराबरी पर छूटे हैं। सिर्फ एक मैच में पुणे ने दिल्ली को हराया है। इस कारण सीजन-4 के अपने पहले मैच में दिल्ली की टीम पुणे के खिलाफ मनोवैज्ञानिक बढ़त के साथ उतरी और उसी बढ़त के दम पर शानदार आगाज किया।
उम्मीद थी कि नए कोच के साथ पुणे की टीम नए सीजन का कुछ अलग आगाज करेगी लेकिन उसके प्रशंसकों को निराशा हाथ लगी। पहला हाफ खाली जाने के बाद दिल्ली ने दूसरे हाफ की शुरुआत में ही अपना दमखम दिखाया और 46वें मिनट में पाउलिन्हो डियास द्वारा किए गए गोल की मदद से बढ़त हासिल की। डियास ने यह गोल लालियानगियान चांग्ते द्वारा बाएं किनारे से दिए गए क्रॉस पर हेडर के जरिए किया। इसके बाद लगा कि पुणे की टीम सम्भल जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और उसकी रक्षापंक्ति की सुस्ती का फायदा उठाकर चांग्ते ने 54वें मिनट में अकेले दम पर एक बेहतरीन गोल करते हुए अपनी टीम को 2-0 से आगे कर दिया। चांग्ते का यह गोल हर लिहाज से दर्शनीय था। वह लगभग मैदान के बीच से गेंद लेकर अकेले भागे और पुणे के गोलकीपर कमलजीत के खुद तक पहुंचने से पहले ही गेंद को गोलपोस्ट में डाल दिया। डायनामोज मानो बेकाबू हो चुके थे। उनका हमला जारी था। 57वें मिनट में दिल्ली की ओर से एक और जोरदार हमला हुआ, लेकिन गोलकीपर कमलजीत ने बेहतरीन बचाव करते हुए पुणे को 0-3 से पीछे होने से बचा लिया। माटियास मेराबाजी ने अपने साथी खिलाड़ी से मिले क्रास को हेडर के जरिए पुणे के गोलपोस्ट में डालने की कोशिश की, लेकिन कमलजीत ने बहुत चालाकी से उसे रोक दिया।
माटियास हालांकि यहां निराश नहीं हुए और 65वें मिनट में गोल करते हुए अपनी टीम को 3-0 से आगे कर दिया। यह निश्चित तौर पर इस मैच का सबसे बेहतरीन गोल था। राइट विंग से प्रीतम कोटाल ने माटियास को पास दिया। माटियास असल में कोटाल को एसिस्ट करने आए थे, लेकिन आत्मविश्वास से भरपूर इस खिलाड़ी ने अचानक अपना मन बदला और अकेले ही गेंद लेकर आगे बढ़े और गोलकीपर सहित तीन खिलाड़ियों को छकाते हुए गेंद को गोलपोस्ट में डाल दिया। अब पुणे के लिए सही मायने में सम्भलने का वक्त था।

Comments          Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...