ads
आज है: December 18, 2018

अंतरराष्ट्रीय

पिछला परिवर्तन-Tuesday, 17 Jul 2018 23:19:01 PM

मानसून की वजह से अब भागने को जमीन भी नहीं बची रोहिंग्या मुसलमानों के पास

Bangladesh

बांग्लादेश। कहते हैं ना कि भागते-भागते जमीन कम पड़ जाती है। म्यामां में हिंसा के बाद अपना देश, गांव , परिवार सबकुछ छोडक़र भागे रोहिंग्या मुसलमानों के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। म्यामां से भागकर पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश में शरण लेने वाले रोहिंग्या समुदाय के लोगों के पास अब सचमुच भागने के लिए जमीन भी नहीं बची है। मानसूनी बारिश के इन महीनों में उनके पास सिर छुपाने की जगह नहीं बची है। पहाड़ी पर बनी कच्ची झोपडिय़ां बारिश और उसके कारण लगातार होने वाले छोटे - बड़े भूस्खलनों को झेलने के लायक नहीं हैं। बारिश का पानी , गाद और जमीन धसकने से उनकी झोपडिय़ां टूट रही हैं। यहां रह रहे करीब नौ लाख रोहिंग्या शरणार्थियों में से एक मुस्तकिमा अपने बच्चों और रिश्तेदारों के साथ भागकर बांग्लादेश आई है।
अपने पति को सैन्य कार्रवाई के दौरान अगस्त 2017 में खो चुकी मुस्तकिमा ने बड़ी मेहनत करके एक झोपड़ी खड़ी की थी। लेकिन जून में हई बारिश में उसके नीचे की मिट्टी धसक गई। उसने फिर भी हार नहीं मानी , एक बार फिर राहत एजेंसियों से मिली बालू की बोरियों और बांसों की मदद से उसने झोपड़ी बनानी शुरू की। खुद से नहीं हो पाया तो , राहत सामग्री के तौर पर मिला दाल , चावल तेल बेच कर सिर पर छत का जुगाड़ किया। लेकिन , शायद खुदरत को यह भी नामंजूर था। इस बार जिस पहाड़ी पर मुस्तकिमा ने अपनी झोपड़ी बनाई, उसमें बारिश का पानी घुस रहा है और वहां भूस्खलन का खतरा मंडरा रहा है। दरअसल , सर्दियों में जिन पहाडिय़ों के पेड़ काटकर रोहिंग्या मुसलमानों ने अपने घर बनाए थे, और जिन पेड़ों की जड़ों को जलाकर ठंड से राहत पायी थी , अब उन्हीं का नहीं होना जैसे अभिशाप बन गया है।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...