ads
आज है: October 19, 2017

बाज़ार

पिछला परिवर्तन-Friday, 19 May 2017 04:37:41 AM

आइडिया-वोडाफोन विलय पर सेबी ने स्पष्टीकरण मांगा

नई दिल्ली। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने आइडिया सेल्युलर से वोडाफोन की भारतीय इकाई के अपने में प्रस्तावित विलय पर स्पष्टीकरण मांगा है। इससे पहले पिछले महीने दोनों कंपनियों ने इस प्रस्तावित विलय पर भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग से इस संबंध में उसकी अनुमति के लिए संपर्क किया था। मार्च में वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर ने अपने परिचालन के विलय की घोषणा की थी। इस विलय के बाद बनने वाली नयी कंपनी देश की सबसे बड़ी दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनी हो जाएगी जिसका मूल्य 23 अरब डॉलर होगा और उसके पास बाजार में 35 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी।
विलय प्रस्ताव के अनुसार ब्रिटेन की वोडाफोन के पास नयी कंपनी में 45.1 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी जबकि आदित्य बिड़ला समूह की आइडिया के पास 26 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। इसमें कंपनी 4.9 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए 3,874 करोड़ रुपये का भुगतान करेगी। बची हुई 28.9 प्रतिशत हिस्सेदारी अन्य शेयरधारकों के पास रहेगी। इससे पहले आइडिया ने सेबी से इस प्रस्तावित विलय के लिए अप्रैल में अनुमति मांगी थी। इस पर सेबी ने इस प्रस्तावित सौदे में शामिल मर्चेंट बैंकर से स्पष्टीकरण मांगा है। सेबी ने क्या स्पष्टीकरण मांगा है इस बारे में अभी कुछ निर्धारित नहीं किया जा सकता है। इस संबंध में आइडिया को भेजे गए ई-मेल का जवाब भी नहीं मिला है।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. नेताजी से फोन पर बात हुई, मुझे आशीर...
  2. अखिलेश के फिर सपा अध्‍यक्ष चुने जान...
  3. केनरा बैंक की एटीएम में लगी आग, लाख...