ads
आज है: April 22, 2018

बाज़ार

पिछला परिवर्तन-Friday, 12 Jan 2018 03:22:57 AM

सरकार ने कहा प्याज की कीमतें कम होंगी

नई दिल्ली। देश के कुछ भागों में प्याज की खुदरा कीमतें 50 से 60 रुपये किलो हो गयी हैं। सरकार का कहना है कि यह मांग-पूर्ति में तात्कालिक अंतर के कारण है और खरीफ का प्याज आने के साथ महीने के अंत तक इसके भाव कम हो जाएंगे। दिल्ली, मुंबई और कोलकाता में प्याज 50 रुपये किलो के आप पास चल रहा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार चेन्नई में भाव 45 रुपये है। छोटे कस्बों में भी प्याज का यही मिजाज हैं। कृषि सचिव एस के पटनायक ने बताया,यह थोड़े समय का मामला है। व्यापारी आपूर्ति में थोड़ समय की घट बढ़ का लाभ ले रहे हैं। लेकिन बुनियाद मजबूत है।
उन्होंने कहा कि फसल वर्ष 2017- 18 (जुलाई से जून) में प्याज पैदावार कुछ कम होने का अनुमान है लेकिन प्याज का कुल उत्पादन घरेलू आवश्यकताओ को पूरा करने के लिए पर्याप्त होगा। कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार रकबा घटने से फसल वर्ष 2017-18 में 4.5 प्रतिशत घटकर 2.14 करोड़ टन रहने का अनुमान है। पिछले वर्ष उत्पादन 2.24 करोड़ टन था।
पटनायक ने कहा कि आने वाले दिनों में प्याज की आवक बढ़ने के साथ प्याज की कीमतों में सुधार होगा। नासिक स्थित राष्ट्रीय बागवानी शोध एवं विकास फाउंडेशन (एनएचआरडीएफ) के कार्यकारी निदेशक पी के गुप्ता ने कहा, मौजूदा समय में खरीफ प्याज की आवक कम है। महीने के अंत तक आवक में सुधार होने की उम्मीद है और उसी के अनुरूप कीमतों में भी सुधार होगा।उन्होंने कहा कि प्रमुख उत्पादक राज्य महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में बुवाई अवधि के दौरान कम बरसात होने के कारण बुवाई के रकबे में 20 से 25 प्रतिशत की कमी रहने की वजह से खरीफ प्याज उत्पादन कम रहने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि एक बार खरीफ प्याज की आवक और बादमें रबी प्याज की फसल के बाजार में उतरने के बाद खुदरा कीमतों में स्वत: ही सुधार होगा।

Comments           Comment
     
   

स्थानीय समाचार


  1. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो...
  2. नेतन्याहू ने पत्नी के साथ किया ताजम...
  3. उम्‍मीद है, मेरे आंदोलन से अब कोई '...