सुकन्या समर्द्धि योजना में आप अपनी 10 वर्ष या इससे कम आयु की बेटी के नाम से आज ही अकाउंट खुलवा सकते है। 

अगर आप बेटी के नाम से ये अकाउंट खुलवाते है तो आपको सरकार की तरफ से काफी अधिक लाभ दिया जाता है। 

बेटियों को सरकार इस समय एसएसवाई स्कीम के तहत 8.2 फीसदी सालाना की दर से ब्याज का लाभ दे रही है। 

इस स्कीम में सरकार की तरफ से बनाये गए नियमों के अनुसार आपको एक साल में कम से कम 250 रूपए का निवेश करना अनिवार्य है। 

अधिकतम निवेश की सीमा इस स्कीम में 1 लाख 50 हजार रूपए एक साल की राखी गई है और इससे अधिक पैसे आप एक साल में इस स्कीम में निवेश नहीं कर सकते। 

सुकन्या समर्द्धि योजना में आपको 15 साल की अवधी के लिए निवेश करना होता है और स्कीम की मच्योरिटी की अवधी 21 साल की होती है। 

हर महीने अगर आप इस स्कीम में 500 रूपए का निवेश करते है तो आपको एक साल में इसमें 6 हजार रूपए और 15 साल के दौरान कुल ₹90,000 का निवेश करना होता है। 

बेटी के इस एसएसवाई खाते की जब मच्योरिटी की अवधी होती है तो सरकार की तरफ से इस योजना के तहत काफी तगड़ा रिटर्न दिया जाता है। 

21 साल की अवधी पूरी होने पर आपको इस स्कीम में ₹2,77,103 का रिटर्न दिया जाता है जिसमे ब्याज और आपका निवेश का पैसा दोनों ही शामिल होते है। 

इस स्कीम के रिटर्न अमाउंट में आपको ₹1,87,103 केवल ब्याज के तौर पर डाकघर की तरफ से दिए जाते है या फिर बैंक की तरफ से दिए जायेंगे। 

इस स्कीम में आप अपनी बेटी के नाम से खाता बैंक या फिर डाकघर दोनों में ही खुलवा सकते है और दोनों में बेटियों को एक समान ब्याज दर का लाभ मिलता है।